किसानों की रैली पर बरसी लाठियां। अंध भक्तों की दबंगई किसानों के लिए कितना घातक।krishi bill 2020 news

किसानों की रैली पर बरसी लाठियां। अंध भक्तों की दबंगई किसानों के लिए कितना घातक।krishi bill 2020 news

 

krishi bill 2020,live chhattisgarh news,krishi bill 2020 news,kisan rally today


केंद्र सरकार ने कृषि अध्यादेश पारित करने के पश्चात पूरे देश भर में कृषि बिल (krishi bill 2020) के खिलाफ किसानों द्वारा विरोध प्रदर्शन जारी है।राज्य सभा सदन में पूर्ण बहुमत ना होने के बावजूद केंद्र सरकार ने बलपूर्वक कृषि बिल पारित करने के कारण पूरे भारत देश में किसानों ने विरोध जताई है।

उक्त कृषि अध्यादेश (krishi bill 2020) में कहीं भी एमएसपी न्यूनतम समर्थन मूल्य का जिक्र नहीं किया गया है जिसका पुरजोर विरोध किसान वर्ग के लोग एवं विपक्ष के द्वारा की जा रही है तथा पूरे प्रदेश में किसान नेताओं एवं किसान संगठन द्वारा इस बिल का विरोध रैली किया जा रहा है। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर कई ऐसे वीडियो वायरल हो रही है जिसमें मोदी भक्तों ने किसानों की रैलियों एवं किसानों पर डंडे लाठी बरसाते हुए दिखाई दे रहे हैं जोकि किसानों की अधिकार का हनन साबित होता है किसानों को अपने हक के लिए रैली kisan rally अथवा प्रदर्शन करना अब मोदी राज में संभव ही नहीं है।

देखें लाइव वीडियो 👇



भारत देश के सभी प्रदेशों में कृषि उपज मंडी समिति द्वारा किसानों की उपार्जन कृषि उपज की समर्थन मूल्य में खरीदारी होती है परंतु केंद्र सरकार द्वारा पारित बिल के अनुसार अब किसानों को स्वतंत्र कर दिया गया है चाहे तो वह अपनी उपज कृषि उपज मंडी में विक्रय कर सकता है या फिर किसी भी पूंजी पतियों सेठ मारवाड़ी के पास भी विक्रय कर सकता है।

यह भी पढ़ें...

छत्तीसगढ़ में बाड़ी योजना से किसानों को फल सब्जी बीज एवं फलदार पौधा....

केंद्र सरकार की इस कृषि अध्यादेश के अनुसार पूरी तरह कारपोरेट जगत को बढ़ावा देना है इस बिल के अनुसार बड़े पूंजीपति कोच्चिया अब किसानों की उपज को सीधी कर सकेंगे जिससे कृषि उपज मंडी की महत्ता घट जाएगी।

उक्त पारित कृषि बिल में किसानों की उपज का मूल्य के बारे में कहीं भी उल्लेख नहीं किया गया है अर्थात किसान किसान अपने उपज का मूल्य खुद तय नहीं कर सकता है। कारपोरेट सेक्टर ही किसानों की उपज का मूल्य तय कर उसे क्राय करेगा।