Subscribe Us

जीड़ार एवं गिरहोला के नजदीक जंगली हाथियों ने मचाया जमकर उत्पात। jangli hathi

live chhattisgarh news, jangli hathi

मैनपुर। पिछले तीन दिनों से मैनपुर तहसील के ग्रामीण इलाकों में जंगली हाथियों (jangli hathi) का झुंड ग्रामीणों के खेत में खड़ी फसल को लगातार नुकसान पहुंचा रही है।

आपको बता दें कि ग्रामपंचायत जिड़ार के आश्रित ग्राम सिहार, रामपारा, एवं ग्रामपंचायत देहारगुड़ा के आश्रित ग्राम गिरहोला के समीप दर्रीपारा के आसपास जंगलों में जंगली हाथियों का दल ग्रामीणों के लिए मुसिबत का सबब बना हुआ है।

साम ढलते ही जंगली हाथी (jangli hathi) गांव के समीप आकर किसानों की फसल को चपरचट कर रही है। साथ ही लोगों को जान-माल  का खतरा बना हुआ है कल साम ग्राम सिहार निवासी जनमेजय सोरी जाति कमार अपने दोस्त के साथ मोटरसाइकिल में आवश्यक काम से तुहामेटा जा रहे थे तभी रामपारा समीप सड़क किनारे जंगली हाथी हमले की अंदाज से निकल पड़े।

यह भी पढ़ें...

जनमेजय सोरी एवं उनके साथी बाईक छोड़कर जान बचाने गांव की ओर भाग निकले,हाथी ने बाइक को तोड़-फोड़ किया जिससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि जंगली हाथी कितना ख़तरनाक है।

साम ढलते ही गांव के लोग दहशत की जिंदगी जीने को मजबूर हो रहे हैं। लोगों का कहना है कि जनपद पंचायत सदस्य श्रीमती कैनीबाई ओंटी लगातार पीड़ितों की हाल चाल पूछ रही है और हाथियों की दहशत से मुकाबला करने ग्रामीणों पिड़ितों के साथ खड़ी है।

गिरहोला (दर्रीपारा) निवासी धरम सिंह धुर्वा ,मोहरलाल ओंटी,यमेंद सिंह ओंटी एवं प्रभावित क्षेत्र के ग्रामीणों ने संबंधित विभाग से रात के समय जंगली हाथियों के खतरों से बचने के लिए मशाल जलाने की मांग कर रहे हैं साथ ही साथ किसानों की फसल जिसको जंगली हाथी ने बर्बाद किया उसका मुआवजा की भी मांग की जा रही है परंतु ग्रामीणों की मांग को अनदेखा किया जा रहा है।

लोगों का कहना है कि फारेस्ट विभाग मैनपुर के फारेस्ट कर्मी और जनपद सदस्य श्रीमती कैनीबाई ओंटी के सिवाय पीड़ितों की सुध लेने के लिए क्षेत्र के कोई भी जनप्रतिनिधि अब तक नहीं आए।

फॉरेस्ट विभाग मैनपुर द्वारा जंगली हाथियों एवं ग्रामीणों की फसल नुकसान का जायजा लिया जा रहा है परंतु जंगली हाथियों को ग्रामीण इलाकों से खदेड़ने का कोई ठोस कदम नहीं उठाने की वजह से लगातार हाथियों का रहवासी बन चुका है।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां